breast cancer kis age me hota hai?
Uncategorized

breast cancer kis age me hota hai?

breast cancer kis age me hota hai? अगर हालही में आप के स्तन में गांठ पैदा हुई है या विकार हुआ है तो ये सवाल आप को परेशान कर सकता है। ये जानने के लिए की आप को ब्रैस्ट कैंसर होने की कितनी संभावना है , आप को ये जानना जरूरी है कि ब्रैस्ट कैंसर के निदान की औसत आयु क्या है?, सभी उम्र की महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर का जोखिम कितना होता है ? , और ब्रैस्ट कैंसर के जोखिम करक क्या हैं ? तो ये सबकुछ जानने के लिए ये लेख पूरा पढ़ें।

breast cancer jyadatar kis age main hota hai? | ब्रैस्ट कैंसर ज्यादातर किस उम्र में होता है ?

20 से 30 साल की उम्र की महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर बहुत कम देखने को मिलता है। ब्रैस्ट कैंसर के सभी मामलों में से केवल 5% ही ऐसे होतें हैं जिनमें मरीज़ की उम्र 40 साल से निचे हो। breast cancer jyadatar 40 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं में ही होता है। ब्रैस्ट कैंसर से पीड़ित महिलाओं को अद्वितीय चुनौतियों का अनुभव होता है।

40 से कम उम्र की महिलाओं में , ब्रैस्ट कैंसर का निदान(diagnosis) अक्सर इसके बाद के चरणों में होता है, और तब तक यह अधिक आक्रामक रूप धारण कर लेता है। इसका मतलब है कि कम उम्र की महिलाओं में जीवित रहने की दर कम होती है और पुनरावृत्ति दर अधिक। ब्रैस्ट कैंसर के जोखिम कारकों और शुरुआती संकेतों और लक्षणों को जानने से आप जल्द ही इलाज शुरू कर सकते हैं।

Healthline की साइट के हिसाब से 40 से कम उम्र की महिलाओं में स्तन कैंसर आम नहीं है।

30 के दशक में 277 में से सिर्फ 1 महिला को ब्रैस्ट कैंसर का खतरा होता है, यानी लगभग 0.4 प्रतिशत। 40 से 50 वर्ष की आयु तक, जोखिम लगभग 68 में 1 हो जाता है, यानी लगभग 1.5 प्रतिशत। 60 से 70 वर्ष की आयु तक ये बढ़कर 28 में 1 , या 3.6 प्रतिशत हो जाता है।

breast cancer kis age me hota hai?
breast cancer kis age me hota hai?

 breast cancer diagnosis ki average age kya hai? | ब्रैस्ट कैंसर के निदान की औसत आयु क्या है ?

जैसे-जैसे एक स्त्री की उम्र बढ़ती जाती है उसमें ब्रैस्ट कैंसर होने का जोखिम बढ़ता जाता है। जैसे-जैसे लोगों की उम्र बढ़ती है, उनकी कोशिकाओं में असामान्य परिवर्तन होने की संभावना अधिक होती है।

50 वर्ष से अधिक आयु की महिलाओं में स्तन कैंसर सबसे आम है। नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट (NCI) के अनुसार, डॉक्टर ज्यादातर 55-64 वर्ष की महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर का निदान(Diagnosis) करते हैं।

Medical News Today के एक लेख में 2012-2016 के आंकड़ों के आधार पर बताया गया की, ब्रैस्ट कैंसर वाली महिलाओं में निदान की औसत आयु 62 वर्ष थी।

सभी उम्र की महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर का जोखिम कितना होता है ?

हालाँकि ब्रैस्ट कैंसर विकसित होने की ज्यादा संभावना 50 वर्ष से ज्यादा आयु वाली महिलाओं में होती है, पर कम आयु की महिलाओं में भी ये पाया जाता है।

NCI के अनुसार, अगले 10 वर्षों के भीतर संयुक्त राज्य में महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर के निदान(diagnosis ) होने जोखिम निम्न है:

  • 30 वर्ष की आयु वालों के लिए 227 में 1 (0.44%)
  • 40 वर्ष की आयु वालों के लिए 68 (1.47%) में 1
  • 50 वर्ष की आयु वालों के लिए 42 (2.38%) में 1
  • 60 वर्ष की आयु वालों के लिए 28 में (3.56%) 1
  • 70 वर्ष की आयु वालों के लिए 26 में 1 (3.82%)

NCI ने एक रिपोर्ट में ये भी बताया है की 437,722 ब्रैस्ट कैंसर के मरीज़ों (जिनका निदान 2012- 2016 के बीच हुआ ) में से –

  • 1.9% की आयु 20-34 वर्ष थी
  • 8.4% की आयु 35-44 वर्ष थी
  • 20.1% की आयु 44-55 वर्ष थी
  • 25.6% 55-64 वर्ष की आयु के थे
  • 24.8% की आयु 65-74 वर्ष थी
  • 13.7% 75-84 वर्ष की आयु के थे
  • 5.6% की आयु 84 वर्ष से ज्यादा थी
breast cancer
breast cancer kis age me hota hai?

breast cancer ke risk factors kya hain? | ब्रैस्ट कैंसर के जोखिम करक क्या हैं ?

अध्ययनों से पता चलता है कि ब्रैस्ट कैंसर के लिए जोखिम बहुत सरे कारणों से बढ़ सकता है। आपके जोखिम को प्रभावित करने वाले मुख्य कारकों में एक महिला होना और उम्रदराज़ी होना शामिल है। ज्यादातर ब्रैस्ट कैंसर उन महिलाओं में पाए जाते हैं जो 50 साल या उससे अधिक उम्र की होती हैं।

कुछ महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर किसी भी ज्ञात जोखिम करक के बिना भी हो सकता है। जोखिम कारक होने का मतलब यह नहीं है कि आपको बीमारी हो जाएगी, और सभी जोखिम कारकों का एक जैसा प्रभाव नहीं भी नहीं होता। अधिकांश महिलाओं में कुछ जोखिम कारक होते हैं, लेकिन उनको ब्रैस्ट कैंसर नहीं होता है। यदि आप में ब्रैस्ट कैंसर के जोखिम कारक हैं, तो अपने चिकित्सक से उन तरीकों के बारे में बात करें जिनसे आप अपने जोखिम को कम कर सकते हैं और ब्रैस्ट कैंसर के लिए स्क्रीनिंग कर सकते हैं।

ऐसे जोखिम कारक जिनको आप बदल नहीं सकते।

  • वृद्ध होना– ब्रैस्ट कैंसर का खतरा उम्र के साथ बढ़ता है; अधिकांश ब्रैस्ट कैंसर का निदान 50 वर्ष की आयु के बाद किया जाता है।
  • आनुवंशिक उत्परिवर्तन( Genetic mutation )- BRCA1 और BRCA2 जैसे कुछ जीनों में निहित परिवर्तन (उत्परिवर्तन)। जिन महिलाओं को ये आनुवांशिक परिवर्तन विरासत में मिले हैं, उनमें ब्रैस्ट और डिम्बग्रंथि(ovary ) के कैंसर का खतरा अधिक होता है।
  • प्रजनन इतिहास। 12 साल की उम्र से पहले मासिक धर्म शुरू होने और 55 साल की उम्र के बाद रजोनिवृत्ति शुरू होने से महिलाओं को लंबे समय तक हार्मोन के उतर चढाव का खतरा होता है, जिससे स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • घने स्तन होना। घने स्तनों में वसायुक्त ऊतक की तुलना में अधिक संयोजी ऊतक होते हैं, जिसके कारन कभी-कभी एक मेम्मोग्राम पर ट्यूमर को देखना मुश्किल बना सकते हैं। और घने स्तनों वाली महिलाओं में स्तन कैंसर होने की संभावना भी अधिक होती है।
  • स्तन कैंसर या कुछ गैर-कैंसर स्तन रोगों का व्यक्तिगत इतिहास। जिन महिलाओं को ब्रैस्ट कैंसर एक बार हो चूका हो उनमे ब्रैस्ट कैंसर दूसरी की संभावना ज्यादा होती है। कुछ गैर-कैंसर स्तन रोग जैसे कि एटिपिकल हाइपरप्लासिया या लोब्युलर कार्सिनोमा इन सीटू में ब्रैस्ट कैंसर होने का जोखिम ज्यादा होता है।
  • ब्रैस्ट कैंसर का पारिवारिक इतिहास। यदि आपकी मां, बहन, या बेटी (पहली डिग्री के रिश्तेदार) या परिवार के किसी सदस्य (माता या पिता किसी की भी साइड पे ) को ब्रैस्ट कैंसर है तो आप में भी ब्रैस्ट कैंसर होने का जोखिम बढ़ जाता है।
  • विकिरण चिकित्सा का उपयोग कर पिछला उपचार। जिन महिलाओं को 30 वर्ष की आयु से पहले छाती या स्तनों (जैसे हॉजकिन लिंफोमा के इलाज के लिए) में विकिरण चिकित्सा का इस्तेमाल हुआ हो , उन्हें जीवन में बाद के दौर में ब्रैस्ट कैंसर होने का अधिक खतरा होता है।
  • जिन महिलाओं ने diethylstilbestrol (DES) ड्रग का इस्तेमाल किया , जो संयुक्त राज्य अमेरिका में 1940 से 1971 के बीच गर्भपात को रोकने के लिए कुछ गर्भवती महिलाओं को दिया गया था, उनका जोखिम अधिक है। जिन महिलाओं की मां ने गर्भवती होने के दौरान डेस लिया, उन्हें भी खतरा है।
breast cancer kis age me hota hai?
breast cancer kis age me hota hai?

ऐसे जोखिम कारक जिनको आप बदल सकते हैं।

  • शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं होना। जो महिलाएं शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं हैं, उनमें ब्रैस्ट कैंसर होने का खतरा अधिक होता है।
  • रजोनिवृत्ति (menopause ) के बाद अधिक वजन या मोटापा होना। अधिक वजन वाली या मोटापे से ग्रस्त वृद्ध महिलाओं को सामान्य वजन की तुलना में ब्रैस्ट कैंसर होने का अधिक खतरा होता है।
  • हार्मोन लेना । हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के कुछ रूप (जो एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन दोनों को शामिल करते हैं) रजोनिवृत्ति के दौरान पांच साल से अधिक समय तक लेने पर ब्रैस्ट कैंसर का जोखिम बढ़ा सकते हैं। स्तन कैंसर के जोखिम को बढ़ाने के लिए कुछ मौखिक गर्भ निरोधकों (जन्म नियंत्रण की गोलियाँ) को भी जिम्मेदार पाया गया है।
  • प्रजनन इतिहास। 30 साल की उम्र के बाद पहली गर्भावस्था होना, या बच्चे को स्तनपान नहीं कराना , या कभी भी पूर्ण गर्भावस्था नहीं होने से ब्रैस्ट कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।
  • दारू पीना। अध्ययन से पता चलता है कि अधिक शराब पीने से स्तन कैंसर के लिए एक महिला का जोखिम बढ़ जाता है।


क्या कम उम्र की महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर को रोका जा सकता है?

ऐसी महिलाएं जिन में परिवार के इतिहास के आधार पे ये पता चलता है की उनमें ब्रैस्ट कैंसर के होने की समभावना है तो उनको आनुवंशिक(genetic ) परामर्श के लिए जाना चाहिए।

ऐसी आनुवंशिक स्थितियों की पहचान स्क्रीनिंग और निवारक उपचार विकल्पों पर अधिक चर्चा की अनुमति देगा। उदाहरण के लिए, BRCA म्यूटेशन कैरियर्स में स्क्रीनिंग 25 साल की उम्र से शुरू होती है।

स्तन कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए सभी महिलाएं जो उपाय कर सकती हैं उनमें शामिल हैं:

  • आदर्श शरीर के वजन को प्राप्त करना और बनाए रखना
  • शराब का सेवन सीमित करना
  • नियमित व्यायाम करना
  • अपने बच्चे को स्तनपान कराना

यदि ब्रैस्ट कैंसर विकसित होता है, तो शीघ्र पहचान और शीघ्र उपचार से महिला के बचने की संभावना बढ़ सकती है। 90% से अधिक महिलाएं जिनके स्तन कैंसर प्रारंभिक अवस्था में पाए जाते हैं, उनकी जीवित रहने की संभावना सबसे ज्यादा होती है।

युवा महिलाओं को स्तन जागरूकता पर परामर्श दिया जाना चाहिए और उनके स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को किसी भी स्तन परिवर्तन की रिपोर्ट करना चाहिए। इन परिवर्तनों में शामिल हो सकते हैं:

  • गांठ
  • निपल निर्वहन(discharge)
  • फोकल दर्द
  • त्वचा में बदलाव


कम उम्र की महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर के बारे में क्या अलग होता है?

  1. कम उम्र की महिलाओं (40 वर्ष से कम) में ब्रैस्ट कैंसर का निदान करना अधिक कठिन है, क्योंकि उनके स्तन ऊतक आमतौर पर ज्यादा उम्र की महिलाओं के स्तन ऊतक की तुलना में अधिक सघन होते हैं।
  2. कम उम्र की महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर अधिक आक्रामक हो सकता है और उपचार की प्रतिक्रिया की संभावना कम होती है।
  3. जिन महिलाओं को कम उम्र में ब्रैस्ट कैंसर का पता चलता है, उनमें स्तन और अन्य कैंसर के लिए आनुवंशिक उत्परिवर्तन होने की संभावना अधिक होती है।
  4. कम उम्र की महिलाएं जिन्हें स्तन कैंसर होता है, वे चेतावनी के संकेतों की अनदेखी कर सकती हैं – जैसे स्तन गांठ या असामान्य निर्वहन – क्योंकि उनको लग सकता ​​है कि वे स्तन कैंसर पाने के लिए बहुत छोटी हैं। इससे निदान में देरी हो सकती है और खराब परिणाम सामने आ सकते हैं।
  5. कुछ स्वास्थ्य सेवा प्रदाता भी युवा महिलाओं में स्तन गांठ या अन्य लक्षणों को खारिज कर सकते हैं या “प्रतीक्षा करें और देखें” दृष्टिकोण अपना सकते हैं।

breast cancer
breast cancer kis age me hota hai?

कौन सी चीज़ 20 से 30 साल की महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर का कारण बन सकती है ?

ब्रैस्ट कैंसर तब होता है जब स्तन में कोशिकाएँ असामान्य रूप से बढ़ने लगती हैं । DNA में परिवर्तन से सामान्य स्तन कोशिकाएं असामान्य हो सकती हैं।

सामान्य कोशिकाएं कैंसर में क्यों बदल जाती हैं इसका सटीक कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन शोधकर्ताओं को पता है कि हार्मोन, पर्यावरणीय कारक और आनुवांशिकी ये सभी एक भूमिका निभाते हैं।

मोटे तौर पर 5 से 10 प्रतिशत ब्रैस्ट कैंसर विरासत में मिले जीन म्यूटेशन से जुड़े होते हैं। सबसे प्रसिद्ध स्तन कैंसर जीन 1 (बीआरसीए 1) और स्तन कैंसर जीन 2 (बीआरसीए 2) हैं। यदि आपके पास स्तन या डिम्बग्रंथि(ovary) के कैंसर का पारिवारिक इतिहास है, तो आपका डॉक्टर इन विशिष्ट उत्परिवर्तन(mutation) के लिए आपके रक्त का परीक्षण करने का सुझाव दे सकता है।

Metastatic ब्रैस्ट कैंसर के कुछ आँकड़े।

Metastatic ब्रैस्ट कैंसर से पीड़ित 40 से कम उम्र की महिलाओं की संख्या बढ़ती जा रही है।

Metastatic ब्रैस्ट कैंसर का मतलब है कि कैंसर चरण 4 में आगे बढ़ गया है और स्तन के ऊतकों से परे शरीर के अन्य क्षेत्रों जैसे हड्डियों या मस्तिष्क में चला गया है। जिन्दा रहने की दर ऐसे कैंसर के लिए कम होती हैं जो शरीर के अन्य भागों में मेटास्टेसाइज हो गए हैं।

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी (एसीएस) के अनुसार, ब्रैस्ट कैंसर से पीड़ित ऐसी महिलाएं जिनमे ब्रैस्ट कैंसर का Metastasis हो गया हो ,उनके लिए 5 साल की जीवित रहने की दर ,सभी उम्र की महिलाओं के लिए, 27 प्रतिशत है। हालांकि, एक अध्ययन में Metastatic ब्रैस्ट कैंसर के साथ युवा और वृद्ध महिलाओं के बीच औसतन जीवित रहने की दर में कोई महत्वपूर्ण अंतर नहीं पाया गया।

एक अन्य अध्ययन में 1988 और 2011 के बीच चरण 4 स्तन कैंसर से पीड़ित 20,000 से अधिक महिलाओं को देखा गया। आंकड़ों से पता चलता है कि 80 के दशक के अंत और 90 के दशक के बाद से अस्तित्व दर(survival rate) में सुधार हुआ है।

ब्रैस्ट कैंसर आपके 20 और 30 के दशक में असामान्य है, लेकिन यह अभी भी हो सकता है। इस आयु वर्ग के लिए नियमित स्क्रीनिंग की सिफारिश नहीं की जाती है, इसलिए निदान मुश्किल हो सकता है। आँकड़ों को समझना, साथ ही साथ आपके व्यक्तिगत जोखिम कारक की पहचान , प्रारंभिक निदान और उपचार में मदद कर सकते हैं।

और लेख पढ़ें –

Reference

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *